पति की गर्लफ्रेंड मेरी सौतन

हैल्लो दोस्तों.. मेरा नाम मानसी है और आज में आप लोगों के साथ अपनी पहली स्टोरी शेयर करना चाहती हूँ। दोस्तों.. यह मेरी लाईफ की एक सच्ची कहानी है। में उड़ीसा की रहने वाली हूँ। हम भुवनेश्वर में रहते है। मेरे पापा सिविल कांट्रेक्टर है। मेरे परिवार में मेरी माँ, मेरे पापा, मेरी एक छोटी बहन और में हम 4 लोग है। मेरी शादी आज से दो साल पहले 22 मई 2013 को सुनील नाम के एक लड़के के साथ हुई.. जो कि मुंबई में एक बहुत बड़ी कम्पनी में सेल्स मेनेजर की पोस्ट पर काम करते है। शादी के बाद में मेरे पति के साथ मुंबई में शिफ्ट हो गई.. मुंबई में उनको कंपनी की तरफ से एक क्वॉर्टर मिला हुआ था और फिर ऐसे ही हमारी शादीशुदा जिंदगी कुछ महीनों तक बहुत मज़े से चलती रही।

वो मुझे बहुत प्यार करते थे और में भी उनके साथ बहुत खुश थी और हमारी सेक्सुअल लाईफ भी बहुत मजेदार थी और में उनसे संतुष्ट थी। वो जब भी मुझे सेक्स करने के लिए कहते थे में तुरंत राज़ी हो जाती थी और ऐसे ही हमारी जिन्दगी के करीब दो साल गुजर गए.. हमे पता भी नहीं चला। फिर दोस्तों में एक दिन जब घर की साफ सफाई कर रही थी.. तो मुझे एक मेमोरी कार्ड मिला और उसको जब मैंने लॅपटॉप में डालकर देखा तो मेरे होश ही उड़ गए.. क्योंकि उसमें कुछ ऐसे वीडियो थे जो में कभी बर्दाश्त नहीं कर सकती। फिर मैंने एक एक विडियो को खोलकर देखा.. उसमे एक लड़की करीब 22-24 साल की होगी जो मेरे पति को किस कर रही थी और मेरे हिसाब से उसका फिगर 30-32-34 होगा और वो किसी होटल का रूम था क्योंकि मुझे उसके अंदर की सजावट से ऐसा लगा और फिर बारी बारी से वो दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे। फिर सुनील ने उसके टॉप और जींस को उतार दिया और वो लड़की अपने एक हाथ को सुनील की पेंट में डालकर उसके लंड को सहला रही थी।

फिर सुनील ने उसको पूरी नंगी कर दिया और उसके बूब्स को मसलने लगा और फिर उसे नीचे लेटा दिया और उसकी चूत में अपनी जीभ को डालकर उसकी चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगा और फिर थोड़ी देर के बाद वो लड़की भी सुनील के लंड को पकड़ कर अपने मुहं में डालकर चूसने लगी और फिर कुछ टाईम ऐसे ही चलता रहा। तभी थोड़ी देर के बाद वो दोनों शांत होने लगे शायद वो दोनों अब झड़ गए थे और वो वीडियो भी खत्म हो गई। फिर मैंने वो सभी वीडियो देखे.. जिनमे सब कुछ एक जैसा ही था। सुनील ने उसमें उस लड़की को कई बार चोदा और उसकी गांड भी मारी। तो मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था और में बहुत गरम भी हो गई थी। फिर शाम को जब सुनील ऑफिस से घर आया तो मैंने उसे कुछ भी नहीं बताया और रात को 10 बजे हम लोगों ने एक साथ में खाना खाया और सोने के लिए अपने बेडरूम में चले गए। फिर बेड पर लेटने के बाद मैंने सुनील से बोला कि सुनील क्या में जो कहूँगी वो तुम करोगे? तो सुनील ने बोला कि हाँ तुम जो भी कहोगी में वो करूँगा। तो में बोली कि तुम मेरी चूत को चाटो तो वो थोड़ा हैरान होकर मुझे देखने लगा और अब मुझे पता था कि वो मेरी चूत को नहीं चाटेगा.. क्योंकि मैंने बहुत बार उसका लंड चूसने के लिए कहा..

लेकिन वो हर बार यह गंदा है कहकर मुझे लंड को चूसने नहीं देता था। तो सुनील बोला कि क्या तुम पागल हो गई हो और वो ऐसा कहकर मुझे डांटने लगा। में तो पहले से ही बहुत गुस्से में थी तो मैंने लॅपटॉप को चालू करके वो विडियो शुरू कर दिया तो वो यह सब देखकर तो वो पसीने पसीने हो गया और फिर वो मुझसे नज़रे चुराने लगा और मुझे बोला कि मनु प्लीज मुझे माफ़ कर दो में ऐसा फिर कभी नहीं करूँगा तुम जो भी बोलोगी में वो सब करूँगा.. लेकिन प्लीज किसी को कुछ मत बताना। फिर में थोड़ी शांत हो गई और बोली कि वो लड़की कौन है? तो वो मुझे बोला कि वो मेरी मौसी की लड़की है.. वो मुंबई में एक होस्टल में रहती है और यह विडियो हमारी शादी से पहले का है और उस टाईम हम दोनों का अफेयर चल रहा था और में उससे शादी भी कर चुका हूँ.. लेकिन अपने घर वालों के डर से मैंने कभी किसी को कुछ भी नहीं बताया। तो में बोली कि अभी भी क्या तुम उसे चोदते हो? तो सुनील बोला कि हाँ में कभी कभी ऑफिस टूर के बहाने जब रात को घर नहीं आता हूँ.. तब में उसके साथ होता हूँ और पूरी रात उसकी चुदाई करता हूँ।

तभी यह बात सुनकर में बहुत गुस्से से उसको डांटने लगी तो वो गिड़गिड़ाते हुए रोने लगा। फिर मुझे लगा कि में अपने पति के साथ ऐसा नहीं कर सकती हूँ अगर उनको उसके साथ थोड़ी बहुत ख़ुशी मिलती है तो में भी उनकी इस ख़ुशी में शामिल हो जाऊँ तो इससे हम सबका भला होगा। तो मैंने उससे पूछा कि उसका नाम क्या है? तो सुनील ने बोला कि उसका नाम पल्लवी है। फिर मैंने बोला कि उसको अभी के अभी फोन लगाओ और उसके साथ सेक्सी बातें करो.. तो सुनील ने पल्लवी को फोन लगाया।

सुनील : हैल्लो पल्लवी।

पल्लवी : हाय जानू कैसे हो? और इतनी रात गये मुझे कैसे याद किया क्या भाभी घर पर नहीं है?

सुनील : नहीं यार तुम्हारी भाभी को तुम्हारे बारे में सब कुछ पता चल गया है।

पल्लवी : क्या? फिर तो में मर गई।

सुनील : अरे तुम्हे कुछ नहीं होगा डरो मत.. तुम्हारी भाभी ने मुझे बोला कि उसको फोन करो तो इसलिए मैंने अभी तुम्हे कॉल किया।

में : हैल्लो पल्लवी कैसी हो?

पल्लवी : भाभी नमस्ते।

में : क्यों पल्लवी मेरी पीठ पीछे यह सब क्या चल रहा है?

पल्लवी : मुझे माफ़ करना भाभी.. लेकिन में सुनील भैया से बहुत प्यार करती हूँ और मैंने तो उनसे शादी भी कर ली है.. लेकिन आपके डर की वजह से में कभी आपके सामने नहीं आ पाती हूँ।

में : क्या तुम सच्चे दिल से सुनील को प्यार करती हो?

पल्लवी : हाँ अगर वो कहे तो में तो उनके लिए अपनी जान भी दे सकती हूँ।

में : तो पल्लवी तुम अभी एक काम करो अपना समान पेक करो और सुनील तुम्हे लेने आ रहा है। तुम अब हमारे साथ यहाँ पर रहोगी और अगर तुम्हे कोई प्राब्लम है तो बताओ?

पल्लवी : क्या सच भाभी? में आपकी बहुत आभारी रहूंगी और भाभी आप जो कहोगी में वो सब करूँगी आपकी नौकरानी बनकर रहूंगी.. प्लीज आप मुझे सुनील से अलग मत करना।

में : अरे नहीं.. वो मेरे पति है और जब तुमने भी उनसे शादी की है तो वो तुम्हारे भी पति हुए तो हम दोनों एक पति की पत्नी बनकर रहेंगे ठीक है.. तुम तैयार हो जाओ में उनको तुम्हें लेने के लिए भेजती हूँ.. बाय बाय।

फिर एक घंटे के बाद सुनील पल्लवी को साथ में लेकर घर पर आ गया और मैंने पल्लवी का आरती की थाली लेकर स्वागत किया और बोला कि आज से हम दोनों एक दूसरे की सौतन हुई.. लेकिन हम दोनों दो बहनों की तरह सुनील की सेवा करेंगी और वो हम दोनों का साथ देगा क्यों ठीक है? फिर मैंने पल्लवी को बोला कि तुम बाथरूम में जाओ और नाहकर आ जाओ आज तुम्हारी सुहागरात है और इससे पहले तो तुम बहुत बार अपनी सुहागरात मना चुकी हो.. लेकिन तुम्हारी असली सुहागरात आज ही है।

फिर मैंने उन दोनों के लिए सुहागरात की सेज तैयार की और फिर वो जब नहाकर बाहर निकली तो मैंने उसे शादी का लाल जोड़ा पहनने के लिए दिया और उसे दुल्हन की तरह तैयार किया और सुनील को बोला कि तुम अब उसकी माँग भरो और मंगलसूत्र पहनाओ। तो सुनील ने उसकी माँग में सिंदूर भरा और मंगलसूत्र पहना दिया। पल्लवी ने सुनील के और मेरे पैर छुए और हम दोनों से आशिर्वाद लिया। तभी पल्लवी ने बोला कि भाभी आप भी तैयार हो जाओ ना आज हम सब मिलकर सुहागरात मनाएँगे। तो मैंने बोला कि पागल आज तू मना हम सब कल से एक ही रूम में एक ही बेड पर सोएंगे और आज में गेस्ट रूम में जाकर सोती हूँ। तो में सोने के लिए चली गई और में बाहर से तो बहुत खुश नजर आ रही थी.. लेकिन अंदर से बहुत दुखी थी। मेरे मन में यही बात खाए जा रही थी कि आज से मेरे पति का प्यार आधा हो जाएगा और ऐसे ही सोचते सोचते मुझे पता ही नहीं चला कब मुझे नींद आ गई और में सो गई।

फिर सुबह जब में सुनील को चाय देने के लिए उसके कमरे में गई तो मैंने देखा कि वो दोनों पूरे नंगे होकर एक दूसरे से लिपट कर सोए हुए है और सुनील का लंड अभी तक पल्लवी की चूत के अंदर ही था और एक हाथ उसके बूब्स पर। तो मैंने दोनों को उठाया और चाय दी और हम सबने मिलकर चाय पी और पल्लवी नहाने चली गई। जब पल्लवी नहाने गई तो सुनील ने मुझसे पूछा कि क्या तुमने हम दोनों को माफ़ कर दिया है? तो मैंने बोला कि अगर मैंने माफ़ नहीं किया होता तो में पल्लवी को यहाँ पर नहीं बुलाती और तुम दोनों को अकेला चुदाई करने के लिए नहीं छोड़ती। तभी यह बात सुनकर सुनील ने खुश होकर मुझे गले लगाया और मुझे किस करने लगा। तो मैंने बोला कि आज से आपकी दो बीवियां है और आपको हम दोनों को खुश करना पड़ेगा। तो सुनील नाहकर ऑफिस चला गया। हम दोनों बैठकर बातें करने लगीं और प्लान करने लगी कि कैसे लाईफ को एन्जॉय किया जाए? और जब रात को सुनील ऑफिस से वापस घर आया तो हम दोनों उससे लिपटकर किस करने लगी। वो बहुत खुश होकर हम दोनों को बारी बारी किस करने लगा।

फिर हम सभी ने खाना खाया और सोने के लिए बेडरूम में आए.. मैंने और पल्लवी ने पारदर्शी गाऊन पहन लिया जो कि मुश्किल से कमर से थोड़ा नीचे था और हमारा बाकी जिस्म नंगा था और हम दोनों ने अंदर कुछ भी नहीं पहना था। फिर जब सुनील रूम के अंदर आया तो हम दोनों को इस तरह से देखकर बहुत खुश हो गया और में सुनील का एक हाथ पकड़ कर उसे चूमने लगी। तभी पल्लवी ने अचानक से उसका बरमूडा पकड़ा और खींचकर उसको नंगा कर दिया और उसके लंड को मुहं में लेकर चूसने लगी। तो सुनील ने अपनी एक ऊँगली मेरी चूत के अंदर डाली और ऊँगली करने लगा.. तभी उसने अपने हाथ की स्पीड बढ़ा दी और मुझे ज़ोर ज़ोर से ऊँगली करने लगा और फिर करीब 10 मिनट के बाद मेरी चूत से गरम पानी की नदी बहने लगी और मेरी चूत से निकला हुआ लावा जांघो से होता हुआ बेड पर गिरने लगा।

तभी सुनील बारी बारी से हम दोनों की चूत को फैलाकर अपनी जीभ से कुत्ते की तरह चाटने लगा और हमारा सारा रस पीने लगा और कहने लगा कि बीवी हो तो ऐसी। तो में सुनील का लंड मुहं में लेकर चूसने लगी तभी सुनील ज़ोर ज़ोर से मेरे मुहं में धक्के देने लगा और थोड़ी देर के बाद सुनील का सारा रस मेरे मुहं के अंदर चला गया। दोस्तों.. आज से पहले कभी भी मैंने उसके लंड को मुहं में नहीं लिया था और ना ही टेस्ट किया था.. लेकिन मुझे उसके लंड के रस का एक अजीब सा स्वाद मिला और फिर मैंने सारा रस पी लिया और हम दोनों बारी बारी उसका लंड चूसने लगे। फिर सुनील हम दोनों को लेटाकर चोदने लगा.. कभी मेरी चूत में तो कभी पल्लवी की चूत में अपना लंड डालने लगा और यह सब करते हुए हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था। उस रात हम लोगों ने 5 बार चुदाई करवाई।

दोस्तों.. में अपनी लाईफ में अपने दिन कैसे गुजार रही हूँ? और सुनील हम दोनों को किस तरह चोद रहा है? हम दोनों अपनी चुदाई से कितने खुश है? यह सब में आप सभी को अपनी अगली स्टोरी में बताउंगी ।।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s